बुधवार, 12 दिसंबर 2012

हमको रखवालो ने लूटा,

हमको रखवालो ने लूटा
 
देश को लूटा गद्दारों ने,दिल्ली दिलवालों ने लूटा, 
अस्मत गिरवी रखकर ,हमको रखवालो ने लूटा !

अपना माल समझकर ,जिसको देखो लूट रहा है
अंधीलूट में अज्ञानी बन,घर को घरवालो ने लूटा !

मधु भी न बची अछूती ,भरते जहां रोज प्याला, 
बदनाम हुई मधुशाला,मधु के मतवालों ने लूटा !

प्रवचन और उपदेश बहाने ,बन बैठे खुद ईश्वर, 
फँसे अज्ञानी भक्त ,बाबा बन नक्कालों ने लूटा !

अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो, 
तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों  ने लूटा !

 

54 टिप्‍पणियां:

  1. beshk ek behatareen rachana,ek bolti sacchayee देश को लूटा गद्दारों ने,दिल्ली दिलवालों ने लूटा,
    अस्मत गिरवी रखकर ,हमको रखवालो ने लूटा !

    अपना माल समझकर ,जिसको देखो लूट रहा है,
    अंधीलूट में अज्ञानी बन,घर को घरवालो ने लूटा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपने ही अपनों को लुटते हैं .....सार्थक लेखनी

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रवचन और उपदेश बहाने ,बन बैठे खुद ईश्वर,
    फँसे अज्ञानी भक्त ,बाबा बन नक्कालों ने लूटा !
    रौशनी बांटने वालों की संदिग्द है रौशनी ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    वाह ! लाजबाब अभिव्यक्ति ,अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    बहुत सुंदर संदेश देती हुई सामयिक गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका यह पोस्ट अच्छा लगा। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. देश को लूटा गद्दारों ने,दिल्ली दिलवालों ने लूटा,
    अस्मत गिरवी रखकर ,हमको रखवालो ने लूटा !
    एक एक पंक्ति सत्यता बयां करती है। वाकई हमे तो ना जाने कितने गद्दारों ने लूटा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. श्रीमान जी रखवाले है हि कहा हर जगह लूटैरे है यहा तो
    युनिक तकनीकी ब्लाग

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद लाजबाब रचना.शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह धीरेन्द्र सर जवाब नहीं आपका लाजवाब सुन्दर रचना बधाई स्वीकारें
    RECENT POST चाह है उसकी मुझे पागल बनाये

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस लूट में खुद को लुटने से बचा लें,यही बहुत होगा हमारे लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  12. लूट के इस खेल के प्रति आक्रोश की अभिव्यक्ति ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढ़िया है सर जी !


    अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    उत्तर देंहटाएं
  14. सीधी - सपाट पर सच्ची खरी बात... लाजबाब अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह.

    कभी उस से, कभी इस से, और न जाने किस किस से.... रोज लूटे हम.

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा 14/12/12,कल के चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका हार्दिक स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  17. हमको उजि‍यालों ने लूटा...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  18. घर वाले ही लूट गये, ख़ज़ाना उनको ही तो मालूम था।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूब...सभ्य समाज के लुटेरो से अवगत कराती सुंदर प्रस्तुति।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आम आदमी की पीड़ा को आपने मुखर स्वर दे दिया कविता के शिल्प में |आभार

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी रचना की चर्चा भास्कर भूमि में भी
    http://bhaskarbhumi.com/epaper/inner_page.php?d=2012-12-14&id=8&city=Rajnandgaon

    उत्तर देंहटाएं
  22. लाजबाब अभिव्यक्ति.....बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  23. सत्य वचन ...धीर जी आपकी चिंता वाजिब है !
    शुभकामनाये!

    उत्तर देंहटाएं
  24. सच कहा आपने २४ कैरेट की तरह खरे ख्यालात .

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेहतरीन, अति सार्थक व सत्य का दर्पण दिखती अति प्रभावी रचना।काश यह उनके हृदय को स्पर्श करे जो देश की अस्मिता के साथ खिलवाड़ करते रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  26. लाजवाब सृजन ,भावो से परिपूर्ण ****^^^^***** अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा

    उत्तर देंहटाएं
  27. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा ! ...वाह ्बहुत बढ़िया..शानदार रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. जिसको जिसने भी लूटा हो, हमने तो इस काव्य रचना के पठन का आनन्द लूटा।

    उत्तर देंहटाएं
  29. हमको तो रखवालों ने लुटा .........सटीक रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  30. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  31. फँसे अज्ञानी भक्त ,बाबा बन नक्कालों ने लूटा ...
    बहुत शानदार रचना, आजकल लूटने वालों से ज्यादा लुटने वाले आगे है :)

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्रवचन और उपदेश बहाने ,बन बैठे खुद ईश्वर,
    फँसे अज्ञानी भक्त ,बाबा बन नक्कालों ने लूटा !

    सच्चाई बयां करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत शानदार ग़ज़ल शानदार भावसंयोजन हर शेर बढ़िया है आपको बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  34. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    ...बहुत सुन्दर और सटीक गज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह ...बढ़िया प्रस्तुति ...:)

    उत्तर देंहटाएं


  36. कामना करें कि नए वर्ष में सब अच्छा ही अच्छा हो।

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुन्दर और सटीक गज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  38. अभी बची यदि खुद्दारी हो,अपने को मत लुटने दो,
    तुमको लूटा अंधियारों ने,हमको उजियालों ने लूटा !

    बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,