सोमवार, 30 जनवरी 2012

हमको भी तडपाओगे....


Friends18.com Orkut Scraps

हमको भी तडपाओगे

जिंदगी से हम क्या शिकायत करे
उनसे मिलने की क्यों इबादत करे
खुदगर्जों से ज्यादा और क्या पायेगें
चोट- पर -चोट खाते चले जायेगें

बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
रोते और गुनगुनाते चले जायेगें,|
|

फिर भी देता है कोई,अगर जख्म तो
उफ़ करेगें नहीं और हम सहे जायेगें,

खुशियाँ आऐ न आऐ हमे गम नही
अब गमों की ही चाहत हमे कम नही


बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
रोते और गुनगुनाते चले जायेगें,||

हमसे नफरत करो या मोहब्बत करो
हमसे चाहत करो या शिकायत करो
तेरी नफरत हमे तो दिल से मंजूर है.
हमने मोहब्बत की है किये जायेगें

बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
रोते और गुनगुनाते चले जायेगें,||

प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
आज हमको मिटाकर वो आबाद है
हो हो आज उनको हमारी कदर
कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें

बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
रोते और गुनगुनाते चले जायेगें,||

जाते जाते गुजारिश है इतनी सनम
याद हमको करना तुम्हे है कसम
गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..

बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
रोते और गुनगुनाते चले जायेगे,||

==================
DHEERENDRA

55 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 30-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गाफिल जी,चर्चामंच में सामिल करने के लिए बहुत२ आभार,......

      welcome to new post ...काव्यान्जलि....

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. हमको भी तड़पाओगे होना चाहिए सर..
      अच्छी रचना.
      सादर.

      हटाएं
    2. त्रुटी बताने के लिए,...आभार

      हटाएं
  3. कल 31/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावपूर्ण विरह गीत! सुन्दर प्रस्तुति।..आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut hi umda virah geet....bdhaai...
    naye blog par saadr aamntrit hai

    गौ वंश रक्षा मंच gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
    रोते और गुनगुनाते चले जायेगे,||
    badhiya rachna .......

    उत्तर देंहटाएं
  7. दर्द को गूंथ कर बड़े भावपूर्ण अंदाज़ में गाया है!
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  8. विरह के भाव लिए आपकी लेखनी ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब.....जुदाई का गम.....दुश्मन को भी न लगे|

    उत्तर देंहटाएं
  10. बढ़ गया दर्द हद से ज्यादा मगर
    रोते और गुनगुनाते चले जायेगे,||

    बहुत सुंदर प्रस्तुति. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जाते जाते गुजारिश है इतनी सनम
    याद हमको न करना तुम्हे है कसम
    गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..

    ....बहुत कोमल अहसास...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर गीत, सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
    आज हमको मिटाकर वो आबाद है
    हो न हो आज उनको हमारी कदर
    कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें

    धीरेंद्र जी आपकी हर रचना मेरे मन में थोड़ी सी जगह पा जाती है । बहुत सुंदर प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जाते जाते गुजारिश है इतनी सनम
    याद हमको न करना तुम्हे है कसम
    गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..

    ऐसा होता था, ऐसा हो रहा है, ऐसा होता रहेगा...!!!

    बढि़या रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर रचना ! धीरेन्दर जी !! बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. फिर भी देता है कोई,अगर जख्म तो
    उफ़ करेगें नहीं और हम सहे जायेगें,
    खुशियाँ आऐ न आऐ हमे गम नही
    अब गमों की ही चाहत हमे कम नही

    हौसला बढ़ाती रचना , कहाँ से आती है इतनी हिम्मत ..... ????

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल पुकारेंगे जब हम चले जायेंगे,

    वाह !!!!!!!!!!!
    पढ़के पत्थर के दिल भी पिघल जायेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
    आज हमको मिटाकर वो आबाद है
    हो न हो आज उनको हमारी कदर
    कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें
    असीम दर्द का अहसास कराती रचना......निःसंदेह सराहनीय.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह! बहुत ख़ूबसूरत ! बहुत खूब लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या बात है - हर सितम सहते जाएंगे , बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  22. हमसे नफरत करो या मोहब्बत करो
    हमसे चाहत करो या शिकायत करो
    तेरी नफरत हमे तो दिल से मंजूर है.
    हमने मोहब्बत किया है किये जायेगें
    waah ... bahut badhiya

    उत्तर देंहटाएं
  23. फिर भी देता है कोई,अगर जख्म तो
    उफ़ करेगें नहीं और हम सहे जायेगें,
    खुशियाँ आऐ न आऐ हमे गम नही
    अब गमों की ही चाहत हमे कम नही ...

    ग़मों से चाहत हो जाए तो जीवा आसान हो जाता है .... बहुत लाजवाब रचना है ... मज़ा आ गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
    आज हमको मिटाकर वो आबाद है
    हो न हो आज उनको हमारी कदर
    कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें
    वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  25. जाते जाते गुजारिश है इतनी सनम
    याद हमको न करना तुम्हे है कसम
    गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..
    ...... pyar ke samarpit bol bahut achhe lage....

    उत्तर देंहटाएं
  26. "गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे.."

    bahut sundar bhav...

    उत्तर देंहटाएं
  27. प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
    आज हमको मिटाकर वो आबाद है
    हो न हो आज उनको हमारी कदर
    कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें
    वाह !! बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  28. Bahut khoobsoorat nazm hai sir..
    bahut achha laga padh kar :)

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपने बहुत सुन्दर शायरी टिपण्णी के रूप में लिखा है जो मुझे बेहद पसंद आया ! आपकी उत्साहवर्धक टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  30. तेरी नफरत हमे तो दिल से मंजूर है.
    हमने मोहब्बत किया है किये जायेगें.....dheerendra ji geet dil ki gahraai tak utar gaya upar ki line me yadi humne mohabbat kiya ki jagah mohabbat ki hai karenge to vyakaran ki drashti se theek lagega.gajab ka geet likha hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  31. जाते जाते गुजारिश है इतनी सनम
    याद हमको न करना तुम्हे है कसम
    गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..


    kya baat hai.
    tadap ke bhav khoob ukere hain aapne.
    sundar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्यार में जिनके हम देखो बर्बाद है,
    आज हमको मिटाकर वो आबाद है
    हो न हो आज उनको हमारी कदर
    कल पुकारेगे जब हम चले जायेगें

    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..
    bahut khoob soorat gazal ....badhai dheerendr ji.

    उत्तर देंहटाएं
  34. गर उठे भाव दिल में जो अहसास के,
    तुम तड़पोगे, हमको भी तडपाओगे..

    bahut hi khoobsoorat gazal Dherendra ji ....badhai sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  35. सुंदर !

    दर्द को यूँ ही ना बढा़इये
    बहुत सारी दवाइयाँ है
    मिलती इस बाजार में
    खरीदिये खाइये और
    दर्द को भगाइये !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,