मंगलवार, 13 दिसंबर 2011

जनता सबक सिखायेगी...

जनता सबक सिखायेगी...

राजनीति की मंडी में, प्रजातंत्र नीलाम हो गया
गुंडागर्दी चोर चकार ,शहर ग्राम में आम हो गया,
गया भाड में देश, इन नेताओं की मक्कारी से
इनसे नफरत हो गई देश को, इनके भ्रष्टाचारी से,

जहर इन्हीं का बोया है, प्रेम-भाव परिपाटी में
घोल दिया बारूद इन्होने, हँसते गाते माटी में,
मस्ती में बौराये नेता, चमचे लगे दलाली में
रख छूरी जनता के,अफसर मस्त है लाली में,

नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
अमरशहीद मातृभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
भूल हुई शासन दे डाला, सरे आम दु:शाशन को
हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,

सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,

नेताओं की पूजा क्यों, क्या ये पूजा लायक है
देश बेच रहे सरे आम, ये ऐसे खल नायक है,
इनके करनी की भरनी, जनता को सहना होगा
इनके खोदे हर गड्ढे को,जनता को भरना होगा,

झूठी कसमें खा संसद में, मंत्री पद पा जाते है
सारे तन्त्र कुतर डाले,जनता को कच्चा खाते है,
ये कलयुग के कालनेम है ,सब कुछ इनकी माया है
राष्ट्र प्रगति का सारा धन, इनके पेट समाया है,

सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
चुल्लू भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
छल का सूरज डूबेगा , नई रौशनी आयेगी
अंधियारे बाटें है तुमने, जनता सबक सिखायेगी
,

________________

dheerendra..
.


77 टिप्‍पणियां:

  1. छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी


    ati sundar rachana
    vikram

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य के करीब है आपकी कविता | प्रजातंत्र को मजाक बना दिया है इन नेताओं ने पर अब और नहीं,आज का युवा परिवर्तन चाहता है और युवा शक्ति इस बदलाव के लिए हर तरह से तैयार है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह,ज़बरदस्त जोश है आपकी कविता में.
    जनता ज़रूर सबक सिखाती है समय आने पर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,
    नेताओं की पूजा क्यों, क्या ये पूजा लायक है
    देश बेच रहे सरे आम, ये ऐसे खल नायक है,
    इनके करनी की भरनी, जनता को सहना होगा
    इनके खोदे हर गड्ढे को,जनता को भरना होगा..
    सुन्दर एवं सटीक पंक्तियाँ! सच्चाई को आपने बड़े ही सुन्दरता से शब्दों में पिरोया है!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लु भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,


    आमीन ... आपकी बात सत्य हो यही कामना है ..अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लु भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    ....बहुत सटीक और प्रेरक प्रस्तुति..उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. झनता तो इन्हे सबक सिखायेगी ही बाबूओं को कौन सिखायेगा सबक उसके लिये तो लोकपाल जरूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut bahut behtreen rachna.rosh bhaav jaagrat karne vaali prastuti.
    aabhaar.

    उत्तर देंहटाएं
  10. छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    सचमुच अब जनता को जाग ही जाना चाहिए सबक सिखाने के लिए...
    सार्थक गीत आदरणीय धीरेन्द्र जी...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज के नेताओं के भ्रष्ट आचरण और लोकतंत्र की खोखली होती नींव पर गहरी चिंता एक आक्रोश के साथ इस कविता में व्यक्त हुई है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. उफ़ ये राजनीती और ये नेता .........सब के सब बेशर्म

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut khoobsoorat vyang dheerendra ji aapke blog kee utkrastta se abhibhoot badhai

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपका पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट नकेनवाद पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,

    बिल्कुल सही बात...।
    वर्तमान परिस्थति का सटीक वर्णन।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सार्थक रचना....
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अच्छी चोट की है आज के नेताओं के चरित्र पर |

    लिंक लगाने का ये अंदाज़ भी बढ़िया रहा |

    टिप्स हिंदी में

    उत्तर देंहटाएं
  18. अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी
    wah......kya baat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सटीक एवं सार्थक रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. जनता समझ जाये तो बेडा पार ही हो जाये,धीरेन्द्र जी.आपकी प्रस्तुति का अंदाज निराला है जी.

    संगीता जी की हलचल में सजी बहुत अच्छी लगी.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  21. सत्य की झलक दिखाती सुन्दर प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  22. छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    प्रेरक प्रस्तुति,शानदार अभिव्यक्ति..आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  23. सच को उजागर करती बेहतरीन प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  24. जनता अभी इसके लिए तैयार नहीं है !वोटिंग कैसे होती है इसका अनुभव आपको भी है इसलिए जनता से ज्यादा उम्मीदें पालना उचित नहीं है !

    बहरहाल आपकी कविता के भाव अच्छे लगे !

    उत्तर देंहटाएं
  25. नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
    अमरशहीद मातृभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
    भूलसे हमने शासन दे डाला, सरे आम दु:शाशन को
    हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,
    der aane ke mafi chahti hoon ,rachna bahut hi achchhi hai ,sach ka chitran hai .

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रभावशाली एवं उतेज्नात्म्क प्रस्तुत बहुत बढ़िया लिखा है आपने बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लु भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    nai raushni ke aane se hi hamaaraa desh badlegaa
    aapki rachanaa ati uttam hai.... mai mobil se comment kar rahi hoo is liye hindi nahi kar paa rahi hoo...

    उत्तर देंहटाएं
  28. Sunder rachna, yatharth ko aaiina dikhati hai aapki ye badhiyan prastuti. . . !

    उत्तर देंहटाएं
  29. सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं

    और फिर भी ये लोग अपने मान अपमान की बात करते हैं ये भूल गए कि सम्मान तो व्यक्तित्व का होता है ....अब न्याय पालिका पर भी शिकंजा कसने लगे हैं तो अति हो ही चुकी... बदलाव का समय है करवट ले रहा है देश

    उत्तर देंहटाएं
  30. सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,

    ठीक कहा पर ...........

    हम क्यों इन्हें ही जीता कर संसद में भेजते हैं. आज बुद्धिजीवी कहलाने वाले लोग vote के समय घर में या तो सोते हैं या टीवी देखते हैं तभी तो ऐसे लोग जीत कर संसद तक आते हैं.
    जरा १००% vote तो हो ८०% ही हो!
    देखें ऐसे लोग कैसे जीत कर संसद में आते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  31. हमारे लोकतंत्र में,सबसे खेदजनक चरित्र और व्यवहार जनता का ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  32. bahut khub. bade hi manoyog se aapne sachchhai ko shabdo ke jaal me bandha hai.

    saadar.

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत बढ़िया ,इंकलाबी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  34. सभी महानुभाव जो मेरे ब्लॉग में आकार मुझे अपने अमूल्य विचार (टिप्पणियाँ)दिए,मेरा उत्साह बढ़ाया उन्हें बहुत२ हार्दिक आभार,.....

    ............धीरेन्द्र सिंह भदौरिया...........

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच्चाई से रूबरू करवाने का आभार लेकिन कब जागेगी हमारी सरकार

    उत्तर देंहटाएं
  36. सत्य कथन , धीरेन्द्र जी - वाह - क्या खूब लिखा.

    उत्तर देंहटाएं
  37. ओजस्वी शब्दों से सुसज्जित धारदार काव्य प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  38. भदौरिया साहब,
    आपने 'विद्रोही स्व-स्वर मे'टिप्पणी देकर मुझसे इस रचना को पढ़ने को कहा,पढ़ा और इस पर टिप्पणियों को देखा। मुझे तो सारे के सारे टिप्पणीकार परले दर्जे के चापलूस और अज्ञानी लगे।
    ये इंटरनेटी वीर ही हैं जो ए सी कमरों मे बैठे रहते हैं और अपना वोट नहीं डालते फिर शोर मचाते हैं। IAS तबका चुने हुये नेताओं को बंधक बना कर अपने भ्रष्टाचार मे साझेदार बना कर उन्हे फंसा देता है और खुद मौज उड़ाता है। NGOs अपनी पत्नियों से बनवाकर कारपोरेट घरानों से मिलकर बुद्धिहीन अगुआ को आगे करके खुद ही भ्रष्टाचार का राग आलाप कर जन-नेताओं को बदनाम करके 'संसद' पर हमला करता है। यह खुराफात 'अर्द्ध सैनिक'तानाशाही की कवायद है। यह गैंग 'राष्ट्र ध्वज' का खुला अपमान कर रहा है। कानून खामोश क्यों है,इन देशद्रोहियों को जीवन का अधिकार भी नहीं है और धनाढ्य टिप्पणीकार उनका ही जैकारा कर रहे हैं। इससे बड़ी त्रासदी और क्या होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  39. सच को उजागर करती बेहतरीन प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  40. बस जी, इसी दिन का बेसब्री से इंतजार है।
    जब जनता सबक सिखाने कोआगे आए।
    बहुत सुंदर, क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  41. आव्वाहन करती जोशीली कविता |प्रतीक्षा है उस दिन की | मैंने अपने ब्लॉग से वर्डवेरिफिकेशन हटा दिया है|

    उत्तर देंहटाएं
  42. आपका पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  43. आम आदमी के आक्रोश को उजागर करती रचना ।
    अब जनता की बरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. जनता तो अवश्य सबक सिखायेगी...उम्दा रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  45. "सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,"


    सुन्दर प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  46. गजब का व्‍यंग्‍य।
    मौजूदा दौर पर सटीक उतरती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत भावपूर्ण रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  48. बहुत अच्छी रचना के साथ यह आजका सच है !

    उत्तर देंहटाएं
  49. नेताओं की सही से पोल खोलती कविता ....आखिरी पंक्तियाँ आशा की एक किरन भी दिखाती है ........सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लू भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूबेगा , नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें है तुमने, जनता सबक सिखायेगी,
    ________________

    उत्तर देंहटाएं
  50. सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लु भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    जनता अवश्य ही सबक सिखायेगी. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  51. जनता जानबूझ कर इन्हें अपना आका बना रही है, यह चिंता का विषय है। क्या सचमुच जनता सबक सिखाने लायक है?????

    उत्तर देंहटाएं
  52. बहुत सुन्दर सटीक व प्रासंगिक कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  53. बहुत सुन्दर प्रस्तुति वाह!

    शुभकामनाएं !

    मेरी नई रचना "तुम्हे भी याद सताती होगी"

    उत्तर देंहटाएं
  54. जोश के सैलाब की रचना .बधाई .नेता को फटकारती रचना .सीधी दो टूक बात सी रचना .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  55. some fantastic lines..
    power packed n full of zeal n enthusiasm !!

    उत्तर देंहटाएं
  56. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...........

    उत्तर देंहटाएं
  57. I have to thank you for the efforts you've put in penning this blog. I'm
    hoping to check out the same high-grade content from you in the future as well.

    In fact, your creative writing abilities has inspired
    me to get my very own blog now ;)
    Feel free to visit my weblog ... as described Here

    उत्तर देंहटाएं
  58. I always spent my half an hour to read this weblog's content everyday along with a cup of coffee.

    Look into my web page Www.erovilla.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,