शनिवार, 17 सितंबर 2011

एक बूँद ओस की...........
















एक बूँद ओस की......


सुबह सुबह पत्तों पर दूर से,
कुछ चमकते देखा-?
ऐसे लगा जैसे
पत्तों में कोई मोती उगा,
कौतूहल बस पास गया
मुझे लगा शायद ये पत्तों के आँसू है
समझ के मेरी बातों को
वो मुझसे कुछ कहने लगी,
तम्हे भ्रम हुआ है
न मै आँसू हूँ, न मै मोती
प्रकृति द्वारा बनाई गयी
मै तो एक बूँद ओस की,
आसमान से चलकर
आज ही जमी पर उतरी हूँ
कुछ पल मुझको जीना है-
कुछ पल में मिट जाऊगी,
लेकिन कुछ पल के लिए ही सही
अपनी पहचान दे जाऊगी,
मै एक छोटी सी बूंद हूँ
पर मेरा अपना असित्व है
तुम एक इंसान हो-
तुम्हारा जीवन में क्या महत्व है........


धीरेन्द्र भदौरिया.....


3 टिप्‍पणियां:

  1. आज आपकी यह कविता वैटव्रक्ष पर पढ़ी बहुत ही सुंदर और प्रभावशाली लेखन है आपका...
    समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है जहाँ पोस्ट बड़ी ज़रूर है किन्तु आपकी राय की जरूरत है धन्यवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  2. धीरेन्द्र जी... Kindly visit the following link through your FB account...

    https://www.facebook.com/photo.php?fbid=413138588799349&set=a.210025952443948.46146.209992032447340&type=1&theater

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,