शुक्रवार, 1 जुलाई 2016

जिन्दगी

जिन्दगी
कल खो दिया आज के लिए
आज खो दिया कल के लिए
कभी जी ना सके हम आज के लिए
बीत रही है जिन्दगी
कल आज और कल के लिए.

      दोस्तों आज मेरा जन्म दिन भी  है, मैंने आज  65  वर्ष पूरे कर लिए ...

10 टिप्‍पणियां:

  1. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ। 'आप जियो हजारों साल ये मेरी है आरजू!'
    हैप्पी बर्थडे सर। :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. आ.धीरेन्द्र सिंह जी , बहुत दिनों के बाद आपका दर्शन हुआ, ख़ुशी हुई | जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं |स्वस्थ रहे ,निरापद रहे ,जिंदगी हँसते हँसते कट जाये यही कामना करता हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (03-07-2016) को "मीत बन जाऊँगा" (चर्चा अंक-2392) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. जन्मदिन की बधाई. सटीक पंक्तियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर,जन्मदिन की बधाई। शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "भूली-बिसरी सी गलियाँ - 8 “ , मे आप के ब्लॉग को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. जन्मदिन की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,